Advanced Search
Welcome to Anuvada Sampada Repository

Items where Subject is "Law and Governanace"

Up a level
Export as [feed] Atom [feed] RSS 1.0 [feed] RSS 2.0
Group by: Creators | Item Type
Jump to: | | | | | | | | | | | |
Number of items at this level: 22.

अग्‍निवेश, स्वामी (2010) ये अन्याय हमें स्वीकार नहीं मूल प्रश्‍न. pp. 35-40.

गाताडे, सुभाष (2005) आधुनिक युग के बर्बर? मूल प्रश्‍न. pp. 28-32.

चिन्‍नप्पा, आर्च बिशप ए.एम. and राज, ए.फिलोमिन (2005) सभी दलितों के समान अधिकार सुनिश्‍चित किए जाएं मूल प्रश्‍न. pp. 50-52.

चौबे, कमलनयन (2013) दो ‘प्रगतिशील’ कानूनों की दास्तान : राज्य, जन-आन्दोलन और प्रतिरोध प्रतिमान, 1 (1). pp. 149-177.

जैन, अरविन्द (2016) बिना ब्याह बच्चे जनो, बच्चों की संरक्षक बनो मूल प्रश्‍न. pp. 27-29.

जैन, कमलेश (2011) न्यायपालिका में भ्रष्टाचार मूल प्रश्‍न. pp. 12-17.

जैन, लाड़ कुमारी जैन (2015) महिला हिंसा और पुलिस की भूमिका मूल प्रश्‍न. pp. 35-42.

जोशी, रामशरण (2004) ज़रूरत है : कल्पनाशील नेतृत्व, संघर्ष और निर्माण की मूल प्रश्‍न. pp. 34-37.

झा, इन्द्रजीत कुमार (2013) सलवा जुडूम और न्याय का लोकतंत्रीकरण : नीति-निर्णय, उदारीकरण और सुप्रीम कोर्ट प्रतिमान, 1 (1). pp. 178-202.

दधीच, नरेश (2016) विचार व्यक्त करने की स्वतंत्रता मूल प्रश्‍न. pp. 17-19.

पाण्डेय, अंकिता (2013) समकालीन भारत में नागरिकता का मानचित्र प्रतिमान, 1 (1). pp. 285-302.

बख़्शी, पूजा (2019) यौन हिंसा और भारतीय राज्य : विसंगतियों के आईने में प्रतिमान (14). pp. 251-262.

मन्दर, हर्ष (2008) भय व आशा के साथ मूल प्रश्‍न. pp. 29-32.

राय, विभूति नारायण (2015) पुलिस : स्वरूप एवं संकट मूल प्रश्‍न. pp. 2-5.

राय, विभूति नारायण (2015) साम्प्रदायिक हिंसा विरोधी क़ानून पर कुछ नोट्स मूल प्रश्‍न. pp. 28-30.

रॉय, अरुन्धती (2005) कितना गहरा और खोदें मूल प्रश्‍न. pp. 12-21.

विजय, शिल्पा (2011) भारतीय न्यायिक व्यवस्था की घटती विश्‍वसनीयता मूल प्रश्‍न. pp. 43-47.

शर्मा, बी. एम. (2015) शासकों की पुलिस को जनता की पुलिस बनाने की आवश्‍यकता मूल प्रश्‍न. 11 -17.

शाह, अजीत प्रकाश (2011) न्यायिक मानक एवं जवाबदेही विधेयक मूल प्रश्‍न. pp. 18-21.

शाही, विनोद (2001) एक नये विश्‍व की ओर मूल प्रश्‍न. pp. 47-50.

सिंह, गिरधारी (2015) पुलिसिया व्यवहार : कारण तथा सुधार के सुझाव मूल प्रश्‍न. pp. 23-27.

सिंह, जितेन्द्र (2019) बंजारा समाज : सभ्य नागरिक से अपराधी जाति की ओर प्रतिमान (14). pp. 281-300.

This list was generated on Mon Jun 17 00:57:08 2024 UTC.