Advanced Search
Welcome to Anuvada Sampada Repository

Items where Subject is "Sociology"

Up a level
Export as [feed] Atom [feed] RSS 1.0 [feed] RSS 2.0
Group by: Creators | Item Type
Jump to: | | | | | | | | | | | | |
Number of items at this level: 21.

अटल, योगेश (2013) भ्रष्टाचार : समाजशास्त्रीय परिप्रेक्ष्य प्रतिमान, 1 (1). pp. 39-51.

कोलगे, निशिकान्त (2019) दलित आन्दोलन के लिए गाँधी - आम्बेडकर बहस के सबक़ प्रतिमान (13). pp. 26-38.

गुप्ता, चारु (2013) रूप और अरूप, सीमा और असीम : औपनिवेशिक उत्तर भारत में दलित-पौरुष प्रतिमान, 1 (1). pp. 99-125.

चौबे, कमल नयन (2019) आदिवासी जीवन और वनवासी कल्याण आश्रम प्रतिमान (14). pp. 75-95.

जोठे, संजय (2016) महिषासुर-विमर्श : एक बार फिर मिथकीय पुनर्पाठ प्रतिमान (7). pp. 107-130.

पाण्डे, ज्ञानेन्द्र (2018) हिन्दुस्तानी आदमी घर में : तब --और अब? प्रतिमान (11). pp. 196-231.

बोर्दिया, मंजुला (2001) सामाजिक न्याय और आत्मबल मूल प्रश्‍न. pp. 11-13.

भार्गव, नरेश (2001) कट्टरता के मानदण्ड और नये आचार की अपेक्षाएं मूल प्रश्‍न. pp. 23-26.

भार्गव, नरेश (2001) सामाजिक संरचना की त्रासदियां: खलीलपुर से डरबन तक मूल प्रश्‍न. pp. 73-76.

मिश्र, अनंत राम (2018) राज्य और धर्म : सूफ़ी विचारधारा और मुक्ति का सवाल प्रतिमान (11). pp. 292-306.

मुन्दड़ा, निशा (2006) महिलाओं की छवि और मीडिया मूल प्रश्न. pp. 42-46.

मुस्कान, (2015) विस्थापन का बोझ ढोती स्त्रियाँ : विकास परियोजनाओं की एक नारीवादी समीक्षा प्रतिमान, 3 (1). pp. 222-224.

मेनन, निवेदिता and वर्मा, अर्चना and बुटालिया, उर्वशी and नक़वी, फ़राह and घई, अनीता and तिलक, रजनी (2017) नारीवाद की भारतीयता : आयाम अस्मिता और अन्तरंगता प्रतिमान, 9 (1). pp. 91-123.

यादव, चन्द्रजीत (2001) सामाजिक न्याय - पिछड़े वर्गों की भूमिका मूल प्रश्‍न. pp. 6-10.

वाल्मीकि, ओमप्रकाश (2005) दलित नैतिकता बनाम वर्चस्ववादी मूल प्रश्‍न. pp. 33-36.

विजय, देवेश (2018) घटती ग़रीबी, बढ़ती तकलीफ़ें : ग़रीबों के जीवन का एक समाजशास्त्रीय चित्र प्रतिमान (11). pp. 52-73.

शलभ’, धर्मपाल गुप्त (2001) दलित संचेतना के उभरते प्रश्‍न मूल प्रश्‍न. pp. 34-36.

श्रीवास्तव, गरिमा (2019) चुप्पियाँ और दरारें : मुसलमान स्त्रियों की आत्मकथाएँ प्रतिमान (14). pp. 201-249.

सिंह, धनंजय (2014) प्रवासी मज़दूर : बिदेसिया लोक-संस्कृति प्रतिमान, 2 (1). pp. 279-311.

सिंह, रमाशंकर (2015) बंसोड, बाँस और लोकतंत्र प्रतिमान, 3 (1). pp. 225-273.

हैनिच, कैरोल (1968) पर्सनल इज़ पॉलिटिकल डिबेट ऑनलाइन (1).

This list was generated on Fri Dec 1 08:53:13 2023 UTC.